भूमिका-प्रस्तावना (ROLE- INTRODUCTIONS.)

विज्ञानमेव जयते (VIGYANMEV JAYATE)
(NATIONAL HINDI ENGLISH MONTHLY SCIENTIFIC MAGAZINE OF INDIA.)

“विज्ञानमेव जयते” भारत का राष्ट्रीय हिंदी अंग्रेजी मासिक पत्रिका, एक वैज्ञानिक मासिक पत्रिका है।इसकी स्थापना दिनांक 20 फरवरी 2015 दिन शुक्रवार को भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार नई-दिल्ली के द्वारा किया गया, पंजीकृत किया गया।विज्ञानमेव जयते के उपलब्धियों एवं मूल्याकंन के आधार पर तथा इसके उत्कृष्ट कार्य को देखते हुए, दिनांक 20 जुलाई 2018 को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार नई-दिल्ली के द्वारा पंजीकृत किया गया तथा भारत में राष्ट्रीय विज्ञान सप्ताह कार्यक्रम( NATIONAL SCIENCE WEEK PROGRAMMES 20 FEBRUARY TO 28 FEBRUARY, NATIONAL SCIENCE DAY) की मान्यता प्राप्त हुई। तब से विज्ञानमेव जयते, (वैज्ञानिक पत्रकारिता महासंगठन)ने भारतीय मीडिया जगत में भारतीय नागरिकों के लिए राष्ट्र की एकता अखण्डता एवं बंधुता,अभिव्यक्ति की आजादी, धर्म पंथनिरपेक्षता जाति -धर्म वंशवाद से उपर उठकर, साहित्यिक, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक, शैक्षणिक, पर्यावरण, कृषि एवं बहुद्देशीय वैज्ञानिक आविष्कारक,विज्ञानी खोजकर्ताओं को प्रोत्साहन, सम्मान पत्र, अवार्ड, प्रदान करना तथा बौद्धिक एवं आर्थिक रूप से समृद्ध बनाने, धर्मपंथनिरपेक्ष,समरसता कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। सभी धर्मों के अध्ययनरत छात्र छात्राओं के लिए ,चाहे वो किसी भी उम्र के हो,बाल पत्रकार, युवा पत्रकार, बाल विज्ञानी, युवा विज्ञानी प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन किया जाएगा तथा उन्हें मानसिक रूप से मजबूत बनाकर भारत राष्ट्र का सक्षम नागरिक बनाया जायेगा।भारतीय छात्र छात्राओं को जिनकी उम्र लगभग खण्ड ए- 7-13 वर्ष, खण्ड बी- 14 से 17 वर्ष, खण्ड सी-18से 25 वर्ष, खण्ड डी- 26 से 35 वर्ष तक के अध्ययनरत छात्र छात्राओं को एक अनिवार्य रूप से पत्रकारिता सर्टीफिकेट कोर्स कराकर अस्थायी या स्थायी रूप से वैतनिक सेवा करने का मौक़ा दिया जाएगा तथा चयनित छात्र छात्राओं को एक वर्ष या तीन वर्षो तक छात्रवृत्ति प्रदान की जायेगी।छात्रवृत्ति मासिक दो सौ रुपये से लेकर पच्चीस हजार रुपए तक की होगी।स्थायी स्नातक पत्रकारों को पाँच हजार रुपये से लेकर एक लाख रुपए तक की मासिक मानदेय प्राप्त होगी, इसके लिए उन्हें विज्ञानमेव जयते के नियमानुसार लक्ष्य को पुरा करना होगा, पत्रकारिता के क्षेत्र में विज्ञापन एवं सदस्यता शुल्क नकद अथवा चेक या ड्राफ्ट के माध्यम से देना अनिवार्य होगा, पत्रकारिता यंत्र प्राप्त करने हेतु सुरक्षा राशि जमा करना अनिवार्य है, यह सुरक्षा राशि यंत्र के कीमतों पर निर्भर करता है।इण्टरमीडिएट या स्नातक उतीर्ण चयनित अभ्यर्थियों को राज्य, प्रमंडल, जिला, अनुमंडल, प्रखण्ड, पंचायत स्तर पर समाचार ब्यूरो के रूप में भुमिका निभाने का मौका दिया जायगा।सभी स्तर के समाचार ब्यूरो को अपने कार्य क्षेत्र में मीडिया प्रेस क्लब स्थापना कर समाचार पत्र, पत्रिका का प्रकाशन एवं विक्रय करना, विज्ञापन प्राप्त करना,पत्रकार श्रृंखला बनाना, तथा भारत को वैज्ञानिक भारत बनाने हेतु मजबूत बुनियाद हेतु वैज्ञानिक शिक्षा का प्रसार करना, स्कूलों, काॅलेजो में निशुल्क विज्ञानमेव जयते पुस्तकालय की स्थापना करना, डिजिटल मीडिया लाइब्रेरी की स्थापना करना, सामाजिक एवं सरकारी योजनाओं को जन जन तक पहुँचाने के लिए जागरूकता अभियान चलाना, समय-समय पर भारत के विधायिका और कार्यपालिका, न्यायपालिका ,पत्रकारिता के साथ सामंजस्य स्थापित करने का कार्य करना।विभिन्न प्रकार के सेमिनार,पत्रकार प्रशिक्षण शिविर,कार्यक्रम, दिवस, महापुरूष जन्मदिन-पुण्यतिथि कार्यक्रम, भारत के राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान करते हुए राष्ट्रीय दिवसों,का आयोजन करना,मुख्य रूप से स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस का आयोजन तथा विभिन्न प्रकार के प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन किया जाएगा तथा चयनित छात्र छात्राओं को प्रशस्ति पत्र अवार्ड से सम्मानित किया जायगा।सभी स्तर के जनप्रतिनिधियों के लिए भारतीय संविधान के अनुसार प्रशिक्षित करना।सभी चयनित मेधावी छात्र छात्राओं को एक अनिवार्य रूप से कम से कम पाँच लाख रूपये एवं अधिकतम एक करोड़ तक की शारीरिक दुर्घटना बीमा पॉलिसी प्रदान की जायेगी,सभी चयनित पत्रिका के पत्रकारों को साप्ताहिक समाचार लेखन, प्रगति प्रतिवेदन ईमेल या रजिस्टर्ड डाक से, हाथों हाथ कार्यालय में जमा करना अनिवार्य है, सेवा उपरांत हीं मानदेय प्राप्त होगी, मानदेय दैनिक भत्ता (भारत सरकार द्वारा निर्धारित) पर आधारित है,यह कार्य पहले, पहले पाओ के आधार पर निर्धारित है।विज्ञापन पत्रकारिता कीं जननी है।सभी चयनित छात्र छात्राओं को को अपने प्रखण्ड समाचार ब्यूरो के नेतृत्व में कार्य करना है या प्रखण्ड अध्यक्ष के द्वारा नियुक्त प्रतिनिधि के नेतृत्व में समयावधि के अन्दर कार्य करना है।सभी स्तर के समाचार ब्यूरो को अपने वरिष्ठ समाचार ब्यूरो के नेतृत्व में कार्य को अंतिम रूप देना है, पत्रकारिता के क्षेत्र में प्रकाशक, प्रधान संपादक,मुद्रक मुख्य प्रशासन होते हैं, इनका निर्णय अंतिम निर्णय होगा। प्रधान संपादक द्वारा नियुक्त राज्य, प्रमंडल, जिला, अनुमंडल, प्रखण्ड समाचार ब्यूरो को अपने कार्य क्षेत्र में मीडिया प्रेस क्लब एवं पत्रकारों का चयन करने की अधिकार होगा,लेकिन निष्कासित हेतु प्रधान संपादक की सहमति अनिवार्य है।जबकि तीन महीने तक निलंबन करने की अधिकार प्रखण्ड को,छह माह तक अनुमंडल को,एक वर्ष तक जिला को,एवं पांच साल तक राज्य को होगा, निलंबित किये गये ब्यूरो की वेतन मानदेय शत् प्रतिशत नही प्रदान की जायेगी।निलंबित ब्यूरो प्रधान संपादक के समक्ष लिखित अपील कर सकते हैं,जाँच में दोषी पाये जाने पर निष्कासित कर दिया जायगा तथा जमा किये गये सुरक्षा राशि वापस नहीं की जायेगी।सभी कार्य भारत सरकार के पत्रकारिता अधिनियम के अंतर्गत संचालित होगी।अनुशासन एवं भाषा का ज्ञान पत्रकारों के लिए अनिवार्य है।प्रकृति के नियमों के खिलाफ कार्य करना पत्रकारों के लिए अपराध है,अप्राकृतिक अनैतिक कार्य करना,भारतीय दण्ड संहिता के अनुसार दंडनीय अपराध है।।
(राष्ट्रीय प्रधान संपादक विज्ञानमेव जयते)